सोमवार, 6 जनवरी 2020

अखिल भारतीय संत समिति के संस्थापक महामंत्री महंत श्री 108 महंत प्रदीप दास जी ब्रह्मलीन

 


ऋषिकेश | 6 जनवरी |  अखिल भारतीय संत समिति के संस्थापक सदस्य व पूर्व महामंत्री महंत श्री 108 महंत प्रदीप दास जी साहेब आज सोमवार सतलोक बासी हो गए | कबीर चौरा आश्रम ऋषिकेश के महंत श्री कपिल मुनि जी महाराज ने बताया कि 78 वर्षीय पूज्य गुरुदेव जी गुजरात प्रवास पर थे |  ज्ञान पीठाधीश्वर अविचल दास जी महाराज के संग विराट धर्म सम्मलेन और अखिल भारत संत समिति की बैठक में भाग लेने आए गुजरात गए थे |  समाधि रस्म कल मंगलवार को 11 बजे ऋषिकेश में होगी | 


देश भर से महंत प्रदीप दास जी के शिष्यों में शोक की लहर छायी हुए है | अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व अध्यक्ष व पञ्च गौड़ पीठाधीश्चावर आचार्य रमेश चन्द्र मिश्र ने प्रदीप दास जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि राष्ट्र व संत समाज की महान क्षति हुई है | वे कबीर पंथ के प्रमुख संतों में से एक थे | कबीर की वाणी को उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रचारित करने में अग्रणी भूमिका निभाई | 


विश्व हिन्दू पीठ के अध्यक्ष आचार्य मदन ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि अखिल भारतीय संत समिति के प्रमुख संतों में से एक महंत प्रदीप दास जी ने राम मंदिर आन्दोलन में सक्रिय भूमिका निभाई | उन्होंने अपने हजारों शिष्यों के साथ गुजरात में रामरथ यात्रा को समर्थन दिया | पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी और वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भी महंत प्रदीप दास जी का आशीर्वाद प्राप्त करके ही रामरथ यात्रा प्रारम्भ की थी |


इसके साथ उत्तराखंड राज्य आन्दोलन में भी वे बहुत ही सक्रिय रहे | सनातन धर्म के मर्मज्ञ और संत शिरोमणि महंत प्रदीप दास जी लगभग 50 वर्षों से ऋषिकेश में ही तपस्या रत थे | 


 


शुक्रवार, 3 जनवरी 2020

सावरकर टाइम्स के संस्थापक श्री जंग बहादुर क्षत्रिय का निधन- हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य रमेश मिश्र जी ने शोक व्यक्त किया

Image result for जंग बहादुर क्षत्रिय


    
जालंधर | 3 जनवरी 20 | आज सुबह चार बजे श्री जंग बहादुर क्षत्रिय जी का उनके आवास में निधन हो गया | क्षत्रिय जी 85 वर्ष की आयु के थे | पंजाब हिन्दू महासभा के सक्रिय नेता के रूप में जाने जाते रहे | इनके पिता जी श्री चमन लाल क्षत्रिय भी हिन्दू महासभा के वरिष्ठ नेता रहे | श्री चमन लाल जी देवता स्वरुप भाई परमानन्द के निकट सहयोगी रहे | श्री जंग बहादुर बाल्यकाल से ही हिन्दू महासभा के विचारों से प्रभावित रहे थे | हिन्दू सभा के अनेक आन्दोलन में इनकी मुख्य भूमिका रही | 
   सावरकर टाइम्स के संस्थापक सम्पादक के रूप में भारत ही नहीं विदेशों में भी क्षत्रिय जी का बहुत सम्मान था | वे सदैव ही हिन्दू , हिंदी, हिन्दू राष्ट्र के सिद्धांतों को ही प्रचारित करते रहे | 
   


   अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व अध्यक्ष व पञ्च गौड़ पीठाधीश्वर आचार्य रमेश चन्द्र मिश्र जी ने क्षत्रिय जी को कलम का वीर हिन्दू योद्धा बताया और कहा कि इनके निधन से हिन्दू महासभा को अपूरणीय क्षति हुई है |
श्री चमन लाल जी के निकट सहयोगी व सावरकर टाइम्स के प्रबंध सम्पादक श्री रामनाथ लूथरा ने क्षत्रिय जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया | 
    विश्व हिन्दू पीठ के अध्यक्ष आचार्य मदन ने कहा कि जंग बहादुर क्षत्रिय जी  हिन्दू राष्ट्र के अदम्य प्रकाश पुंज थे, उन्होंने अभाव व आलोचनाओं की परवाह न करते हुए हिन्दू महासभा के संगठन के लिए अपना जीवन स्वाहा कर दिया |  


      ज्ञात हो कि अभी कुछ समय पूर्व पंजाब में पाकिस्तानी व अफगानी घुसपैठ को लेकर श्री क्षत्रिय ने पंजाब के राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर अवगत कराया था | 


श्री जंग बहादुर क्षत्रिय ने राज्यपाल वी पी सिंह बड्नोर के नाम लिखे एक पत्र में कहा था कि


     "पंजाब में पाक, बांग्लादेश व अफगान के 25 लाख घुसपैठिए अवैध रूप से रह रहे हैं जोकि प्रत्येक शुक्रवार की नमाज सडक़ों पर एकत्रित होकर पढ़ते हैं, जिससे ट्रैफिक व स्थानीय लोगों को व दुकानदारों को अति परेशानी होती है। इस प्रकार जनता में एक दहशत का वातावरण बना हुआ है ये लोग मूल रूप से यहां के निवासी नहीं है, बल्कि सभी घुसपैठिए हैं। इन घुसपैठिए को सडक़ों पर नमाज पढऩे से रोकें ताकि पंजाब में शांति का माहौल कायम रह सके।"


    उन्होंने कहा कि वह इसकी जानकारी इस पत्र के माध्यम से दे रहे हैं। यदि आपने इस संदर्भ में एक्शन नहीं लिया तो भविष्य में तमाम घटना की जिम्मेदारी आपकी होगी। मैंने पंजाब में अनेक जिलों का दौरा किया है जो जानकारी प्राप्त होकर आई है वह मैं आपको दे रहा हूं।


बुधवार, 1 जनवरी 2020

माँ दुर्गा के बीज मंत्र का गलत प्रयोग करना प्रियंका गांधी को भविष्य में घातक सिद्ध होगा -आचार्य मदन

       


Image result for प्रियंका दुर्गा मंत्र       


       प्रियंका गांधी द्वारा आधी रात को माँ दुर्गा के बीज मन्त्र के गलत ढ़ंग से प्रयोग करने से स्वयं के लिए घातक सिद्ध होगा, इसमें कोई संदेह नहीं है | अपनी प्रेस वार्ता में प्रियंका ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धर्म सिखाने का जो बयान दिया है वह निन्दनीय है | कृष्ण का उदाहरण लेकर प्रियंका ने कहा कि कृष्ण प्रेम सिखाते हैं, जबकि प्रियंका को यह स्मरण रखना चाहिए कि कृष्ण ने अर्जुन को कुरुक्षेत्र में अधर्मी जनों के विरुद्ध युद्ध का आदेश दिया था | योगी आदित्यनाथ देश द्रोही व राष्ट्र धर्म द्रोही घुसपैठियों और उनके समर्थक पर दंडात्मक कार्यवाही कर रहे हैं तो वह राजधर्म के अनुकूल ही है | 


      प्रियंका गाँधी यह भूल गई कि योगी आदित्यनाथ 'नाथ सम्प्रदाय' के सर्वोच्च धर्माधिकारी है, गुरु गोरखनाथ की योग परम्परा से है, उन्हें धर्म की नसीयत देना एक मुर्खतापूर्ण दुसाहस है | कांग्रेस अपनी कुटिल चालों से भगवा और हिन्दू संस्कृति को नष्टभ्रष्ट और अपमानित करने में प्रयास रत रहती है |  



    कांग्रेस का इतिहास रहा है कि हिन्दू धर्म गुरुओं और हिन्दू संगठनों को दबाने के लिए भगवा आतंकवाद का षड्यंत्र रचा गया | कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने मालेगाँव बम धमाके और मुंबई अटैक को हिन्दू धर्माचार्यो से जोड़ा | जिसके चलते  स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित, मेजर उपाध्याय, साध्वी प्रज्ञा, शंकराचार्य स्वामी अमृतानंद जी महाराज जैसे अनेक संतों व राष्ट्रवादी लोगों को कारवास का दंड भोगना पड़ा | राहुल गांधी स्वयं हिन्दू आतंकवाद का भ्रम फैला कर मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति और ईसाई साम्राज्य वाद की जड़े भारत में फैलाने के कुचक्र में लगी हुई थी | 


 किन्तु हिन्दू जनभावना ने राम मंदिर और भगवा को सर्वोपरि मानते हुए हिन्दू वादी पार्टी को वोट दिया | हिन्दू के वोट बैंक को मजबूत देखते हुए राहुल गाँधी जनेऊ धारण करने लगे, मंदिर-मंदिर के चक्कर लगाने लगे | प्रियंका गाँधी भी बनारस लोक सभा चुनाव 19 में काशी विश्वनाथ में भगवा धारण कर जलाभिषेक किया | हिन्दू को संगठित देखकर कांग्रेस का हिन्दूकरण होने लग रहा है, किन्तु वास्तव में कांग्रेस का इतिहास और वर्तमान गांधी परिवार इटालियन माँ सोनिया की छत्र छाया में पादिरियों के ही प्रभाव में हैं | राजीव गांधी के पिता फिरोज खान थे, वे हिन्दू नहीं थे, माँ इंदिरा से अवश्य कुछ हिन्दू संस्कार ग्रहण किये होंगे किन्तु विदेशी महिला से विवाह के उपरान्त उनकी संतानों ने विदेशी ईसाई धर्म के ही संस्कार लिए | अब जनेऊ दिखाना और गोत्र बताने की आवश्यकता के पीछे हिन्दू वोट बैंक है | 


   अगर ये हिन्दू होते तो इन्हें घूम-घूमकर अपना गोत्र बताने की आवश्यकता नहीं पड़ती | 


Featured Post

जगद्गुरु रामानुजाचार्य ने भी इसी महाशक्ति पीठ- शारदा सर्वज्ञ पीठ से प्रेरणा प्राप्त की थी

 नमस्ते शारदे देवि, काश्मीरपुर वासिनी,  त्वामहं प्रार्थये नित्यं, विद्यादानं च देहि मे  श्री शारदा सर्वज्ञ पीठ-काश्मीर का इतिहास  प्राक्कथन ...