लता मंगेशकर में नहीं है कालसर्प दोष







Image result for लता मंगेशकर horoscopeImage result for lata mangeshkar


      जब सारे ग्रह राहू केतु के बीच में राहू के आगे होते है तो जातक कालसर्प योग के दुष्प्रभाव से पीड़ित होता है |


     कुछ ज्योतिषी लता जी की कुण्डली में शेषनाग कालसर्प योग बताते हैं परन्तु राहू के वक्री पथ पर केवल शनि ग्रह ही अष्टम भाव में स्थित है | शेष सभी ग्रह राहू-केतु के बंधन से बाहर है |


     28 सितम्बर 1929, मुंबई को रात्रि 11 जन्मी लता मंगेशकर के लग्न में स्थित अष्टमेशव लाभेश गुरु की स्थिति ने जातक को दीर्घायु योग प्रदान किया है | साधारणत: लग्न का बृहस्पति निरोगी, दीर्घायु बनाता है, जीवन में संघर्ष देता है मगर अंत में विजयी भी बनाता है |  वृषभ लग्न में स्थित अष्टमेश गुरु पर मारकेश व द्वादशेश मंगल की अष्टम दृष्टि जो इनके स्वास्थ्य के लिए प्रतिकूल प्रभाव देगा |


   दिसम्बर 13 से गुरु की महादशा प्रारम्भ हो चुकी है | जिसमें बुध का अंतर अगस्त 18 से स्वास्थ्य को लेकर चिंताजनक समय दर्शा रहा है | पंचमस्थ बुध ( एक गणना के अनुसार बुध छठे भाव में प्रवेश कर चूका है )  स्वयं में मारकत्व का प्रभाव रखे हुए और मारकेश व द्वादशेश मंगल के नक्षत्र में होकर छठे में बैठे मंगल के साथ ही दो अंशों के निकट होकर पीड़ित है | बुध के बाद भी दिसम्बर 20 से केतु के अंतर में स्वास्थ्य को लेकर संतोषजनक स्थिति का होना और कठिन हो जाएगा |


Image result for लता मंगेशकर जीवन


    अपनी जीवन यात्रा में जातिका ने गायन विद्या की प्राप्ति कर उसी को व्यवसाय बनाया | लग्न में बैठा गुरु ने जातिका को विद्या में रूचि पैदा की | लग्न का गुरु विद्या की प्यास तो जगाता ही है, साथ ही उसे एक अच्छे स्वाभाव का व्यक्तित्व भी प्रदान करता है | जातिका के अन्दर हर परिस्थिति में स्वयं को ढाल कर आगे बढ़ने की अद्भुत ताकत होती है |


  Image result for लता मंगेशकर जीवन     केतु के संघर्षमय दशा के उपरान्त दिसम्बर 52 से शुक्र की महादशा से फ़िल्मी गायन का कैरियर ने नयी रफ़्तार पकड़ी | लग्नेश शुक्र चतुर्थ भाव में स्थित होकर दशम भाव पर दृष्टि डाल रहा है | 


      तृतीय भाव का स्वामी चन्द्रमा अपनी ही राशि में स्थित होकर गायन कला से जुड़े वाणी भाव के स्वामी बुध के नक्षत्र अश्लेशा में स्थित है | नवांश का स्वामी ग्रह बुध लग्नेश व दशमेश होकर उच्च भाव कन्या में स्थित है | नवांश में दशम भाव पर चंद्रमा की दृष्टि भी है | दशमांश कुंडली में भी दशमेश और तृतीयेश की एकादश भाव में युति कला क्षेत्र में व्यवसाय को दर्शा रही है | दशमांश के कर्मेश चन्द्र के साथ बैठे गुरु की बुध पर बुध के राशीश जो गुरु की राशि तृतीय भाव पर बैठे शनि पर दृष्टि है | 


   लग्न कुंडली में  भाग्येश व कर्मेश शनि की अष्टम भाव से दशम भाव में दृष्टि से कर्म भाव को मजबूत करने के साथ भाग्यशाली होने का योग भी देता है | 


   विवाह के मामले में सप्मेश की छठे भाव में राहू केतू के धुरी में पीड़ित होना इस भाव के सुखद फलों की हानि करता हैं | वाणी का कारक बुध इनकी कुण्डली में द्वितीयेश व पंचमेश होकर स्वराशि के होकर पंचम भाव में केंद्र के स्वामी के साथ राजयोग बना रहे हैं |
    वक्री बुध स्वतंत्र आजीविका के कारक भाव सप्तमेश मंगल के नक्षत्र चित्रा में हैं | नवांश में बुध लग्न में स्व राशि के होकर एक सशक्त स्थिति बना रहे हैं | बुध लग्न के अंशों के अति निकट होकर प्रभावी फल देने में सक्षम हैं|


  Image result for लता मंगेशकर old picsImage result for लता मंगेशकर old pics


    संघर्ष के भाव में स्थित केतु जो लाभेश व अष्टमेश गुरु के नक्षत्र में स्थित है की महादशा 1946 - 1953 के बीच भारतीय सिनेमा में अपनी पहचान स्थापित करने में सफल रही | 


    बुध इनकी कुंडली में सर्वाधिक अंशों का होकर आत्मकारक ग्रह है | 1969 में लग्नेश शुक्र की महादशा के अंतर बुध में पद्म भूषण और भी कई भारतीय सिनेमा के संगीत अवार्ड हासिल किये |


     लग्नेश शुक्र के नक्षत्र में स्थित राहू की महादशा 1996 से प्रारम्भ हुई | बारहवें भाव में स्थित राहू को द्वादेश मंगल छठे भाव से देखता हैं और राहू लग्नेश शुक्र के नक्षत्र में हैं | नवांश में शुक्र लाभ स्थान में और लाभेश चन्द्र चतुर्थ भाव में चतुर्थेश व सप्तमेश गुरु से दृष्ट है |


  Image result for लता मंगेशकर अवारॠडImage result for लता मंगेशकर अवारॠड


    इसी राहू की महादशा के अंतर राहू में ही इन्हें महाराष्ट्र भूषण अवार्ड मिला | राहू- गुरु में इन्हें भारत सरकार ने पद्म विभूषण, और राहू- केतु के पथ में आए भाग्येश शनि की अंतर दशा में भारत-रत्न के सम्मान की प्राप्ति हुई |


Image result for लता मंगेशकर अवारॠडImage result for लता मंगेशकर अवारॠड