Contact Information

header ads

ऋग्वेद 1.18.6

सदस॒स्पति॒मद्भुतं प्रियमिन्द्रस्य॒ काम्य॑

म्सनि मेधामयासिषम्॥६॥

सदसः। पतिम्। अद्भुतम्। प्रियम्। इन्द्रस्य। काम्य॑म्। सनिम्। मेधाम्। अयासिषम्॥६॥

पदार्थ:-(सदसः) सीदन्ति विद्वांसो धार्मिका न्यायधीशा यस्मिंस्तत्सदः सभा तस्यअत्राधिकरणेऽसुन्। (पतिम्) स्वामिनम् (अद्भुतम्) आश्चर्यगुणस्वभावस्वरूपम्अदिभुवो डुतच्। (उणा०५.१) अनेन 'भू' धातोरापपदे डुतच् प्रत्ययः। (प्रियम्) प्रीणाति सर्वान् प्राणिनस्तम् (इन्द्रस्य) जीवस्य (काम्यम्) कमनीयम् (सनिम्) पापपुण्यानां विभागेन फलप्रदातारम्। खनिकष्यज्यसि० (उणा०४.१४५) अनेन 'सन' धातोरिः प्रत्ययः (मेधाम्) धारणावतीं बुद्धिम् (अयासिषम्) प्राप्नुयाम्॥६॥

अन्वयः-अहमिन्द्रस्य काम्यं सनिं प्रियमद्भुतं सदसस्पतिं परमेश्वरमुपास्य सभाध्यक्षं प्राप्य मेधामयासिषं बुद्धिं प्राप्नुयाम्॥६॥

भावार्थ:-ये मनुष्याः सर्वशक्तिमन्तं सर्वाधिष्ठातारं सर्वानन्दप्रदं परमेश्वरसुपासते, ये च सर्वोत्कृष्टगुणस्वभावपरोपकारिणं सभापतिं प्राप्नुवन्ति त एव सर्वशास्त्रबोधक्रियायुक्तां धियं प्राप्य पुरुषार्थिनो विद्वांसश्च भूत्वा सुखिनो भवन्तीति॥६॥

पदार्थ:-मैं (इन्द्रस्य) जो सब प्राणियों को ऐश्वर्य देने (काम्यम्) उत्तम (सनिम्) पाप-पुण्य कर्मों के यथायोग्य फल देने और (प्रियम्) प्राणियों को प्रसन्न करानेवाले (अद्भुतम्) आश्चर्य्यमय गुण और स्वभाव स्वरूप (सदसस्पतिम्) और जिसमें विद्वान् धार्मिक न्याय करनेवाले स्थित हों, उस सभा के स्वामी परमेश्वर की उपासना और सब उत्तम गुण स्वभाव परोपकारी सभापति को प्राप्त होके (मेधाम्) उत्तम ज्ञान को धारण करनेवाली बुद्धि को (अयासिषम्) प्राप्त होऊ॥६॥ ___

भावार्थ:-जो मनुष्य सर्वशक्तिमान् सबके अधिष्ठाता और सब आनन्द के देनेवाले परमेश्वर की उपासना करते और उत्कृष्ट न्यायाधीश को प्राप्त होते हैं, वे ही सब शास्त्रों के बोध से प्रसिद्ध क्रियाओं से युक्त बुद्धियों को प्राप्त और पुरुषार्थी होकर विद्वान् होते हैं॥६॥

स एव सर्वं जगद्रचयतीत्युपदिश्यते।

वही सब जगत् को रचता है, इसका उपदेश अगले मन्त्र में किया है