अमावस्या के दिन करें ये सरल उपाय- मिलेगी कर्जे व रोग से मुक्ति- ज्योतिष मंथन





Tantrik Baba - Tantra - Mantra Sadhna , Strong Powerful Vashikaran Prayog:  अमावस्या के चमत्कारी उपाय


प्रत्येक माह अमावस्या के दिन एक ऐसा समय होता है जब कई प्रकार के उपायों एवं टोटकों को करके अपनी समस्किया से मुक्ति पा सकते हैं. इसी दिन पूर्णिमा, और सूर्य सक्रांति की तरह साधक मन्त्र सिद्धि या वैदिक तंत्र सिद्धि का प्रयोग करता है तो वह शीघ्र ही सकरात्मक परिणाम देता है.  विशेष रूप से अमावस्या के दिन सूर्य और चंद्रमा एक साथ होते है, दोनों ही शक्तियां एकत्र होती है, जो युग्म शक्ति रूप होकर कई गुना अधिक शक्तिशाली हो जाती है, यदि आप कर्ज मुक्ति के लिए या वैवाहिक सुख के लिए या रोग मुक्ति के लिए सरल व कारगर उपाय खोज रहें तो इस लेख को पढ़े. 


    वर्ष भर इस तिथि पर ही अनेकों प्रकार के तांत्रिक कर्म भी संपन्न होते हैं. आध्यात्मिक शक्ति को जागृत करने के लिए भी इस रात्रि का उपयोग किया जाता है. आईये जानते हैं की इस अमावस्या के दिन  हम किस प्रकार के उपायों को करके जीवन की दिशा और दशा को बदल सकते हैं. 


अमावस्या के दिन इस उपाय को करते ही आपके घर से भाग जाएंगी नकारात्मक शक्तियां  | NewsTrack Hindi 1

कर्ज मुक्ति के लिए करें ये उपाय 


     अमावस्या के दिन सुबह स्नान करके किसी भी मंदिर में जाएं और भगवान् को एक नारियल अर्पित करके अपनी आर्थिक समस्या या  कर्ज मुक्ति के लिए प्रार्थना करें. फिर अपामार्ग के पौधे की जड़ को माथे से लगाकर भगवान से आशीर्वाद मांगते हुए इस बूटी के उपयोग की प्रार्थना करें, यह अपामार्ग एक अत्यंत चमत्कारिक औषधि है. इस दिन मंदिर से वापस आकर उस अपामार्ग की जड़ को घर की तिजोरी या जहां आप अपना धन रखते हैं वहां पर एक सफेद कागज़ व सफेद कपडें में रखें तो यह आपके कर्ज को दूर करने में सहायक होगा.




    कर्ज से मुक्ति पाने के लिए इस अमावस्या के दिन आप कुश की जड़, बिल्व के पत्ते, इसका फल, बीज, जड़ और सिंदूर को लीजिए और इन सभी चीजों को दोपहर के अभिजित मुहूर्त के समय पर पीसकर एक चूर्ण बना लीजिए. अब इस मिश्रण को गंगाजल से गीला कर लीजिए. अब भोज पत्र पर अनार की कलम से - "ऊं आं ह्रीं क्रौं श्रीं श्रीयै नम: ममालक्ष्मीं नाशय नाशय मामृणोत्तीर्णं कुरु कुरु संपदं वर्धय वर्धय स्वाहा" इस मंत्र को लिखें और घर के पूजा स्थल पर इसे स्थापित करें. इस उपाय से भी आपके घर में धन की कमी नहीं होगी. 




जीवन में सुख प्राप्ति के लिए 


    जीवन में चली आ रही परेशानियों और कलह कलेश से मुक्ति पाने के लिए कम से एक वर्ष तक अमावस्या के दिन मध्य रात्रि में  एक जटा वाला नारियल लीजिए इस पर सिंदूर लगा कर लाल धागा बांधे और इस नारियल को धूप दीप दिखाएं अब रात्रि में 12 बजे के दौरान नारियल को अपने ऊपर से तीन बार वार के इसे चौराहे पर फेंक आएं इससे आपके जीवन में मौजूद कलह कलेश दूर होंगे और सुख की प्राप्ति होगी. 




वैवाहिक सुख समृद्धि के लिए 


अमावस्या के दिन प्रात:काल समय माँ दुर्गा को मखाने से बनी खीर और मालपुओं का भोग लगाएं. इस भोग को गरीबों में बांटे और परिवार समेत इसे ग्रहण करने से दांपत्य सुख की प्राप्ति होती है. 




    इसके अतिरिक्त एक मेहंदी का पैकट लीजिए इसे समूह से अलग घूम रहे किसी एक किन्नर को भेंट करें और उनसे आशीर्वाद ग्रहण करें. इससे आपके वैवाहिक जीवन के कष्ट दूर होंगे. 




    अमावस्या के दिन माँ दुर्गा के मंदिर में जाकर पति पत्नी एक साथ जाएं वहां एक पुष्प की एक माला लीजिए इसे देवी जी को एक साथ चढ़ाएं और अपने दांपत्य जीवन के सुख की प्रार्थना करें. इस उपाय को नौ माह तक नियमित करें. 




रोग मुक्ति और स्वास्थ्य लाभ के लिए 


    किसी भी अमावस्या  के दिन सात प्रकार के अनाज लीजिए, वजन कम से कम प्रत्येक अनाज का एक-एक किलो होना चाहिए.  इस अनाज को शिव मंदिर पर दान कर आएं इससे नकारात्मकता दूर होगी ओर शुभता का जीवन में आगमन होगा. 




  अमावस्या के दिन रोग से मुक्ति पाने के लिए इस दिन सात कोड़ी लीजिए और उसे रोगी के ऊपर से वार कर बहते हुए पानी में प्रवाहित करें. इस कार्य को सूर्यास्त के बाद शाम के समय पर ही करें. 




सिद्धि एवं साधना का दिन 


यह दिवस आपकी आध्यात्मिक यात्रा को आगे ले जाने में भी अत्यंत सहायक माना गया है. इस दिन पर किया गए मंत्र सिद्धि के कार्य एवं कोई विशेष साधना भी सफल हो सकती है. इस कारण ही इस दिन को मंत्र एवं तंत्र की सिद्धि एवं सफलता हेतु उपयोग किया जाता है. 




सर्व भय से मुक्ति हेतु एक सरल उपाय 


    अमावस्या के दिन प्रात:काल समय पीपल के पेड़ पर कच्चा दूध चढ़ाएं और सात बार उस की परिक्रमा करें. एवं संध्या समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसों या तिल के तेल का चौमुखी दीपक जलाएं. इस दिन ये महा मृत्युंजय मन्त्र के विशेष अनुष्ठान करने से आपके समस्त कष्टों को दूर करने में अत्यंत ही सहायक बन सकता है. आपके द्वारा किया गया ये साधारण सा उपाय आपके जीवन के अनेक ज्ञात और अज्ञात भय से बचाने में भी अत्यंत सहायक सिद्ध हो सकता है. 




विशेष: आप इस अमावस्या के दिन अपनी श्रद्धा और विश्वास के द्वारा व सामर्थ्य अनुसार जो भी पूजा पाठ एवं दान पुण्य करते हैं उसका शुभ दायक फल अवश्य ही आपको प्राप्त होता है. इस दिवस पर किया गया समस्त शुभ कार्य आपके साथ साथ आपके आस पास के वातावरण को भी शुद्ध करता है. इसलिए आप चाहे जो भी करें किंतु सदैव उचित एवं कल्याण हेतु किया गया कार्य ही आपको शुभता देने में सहायक बनता है. 



 

 


 


 













  





Popular posts from this blog

क्या आपकी जन्म कुंडली में है अंगारक योग ?  अशुभ अंगारक दोष से हो सकती है जेल !!

चंद्रमा जन्म कुंडली में नीच या पाप प्रभाव में हो तो ये करें उपाय

श्री दुर्गा सप्तशती के 6 विलक्षण मंत्र, करेंगे हर संकट का अंत