कैसे ज्ञात करें अपना शुभ मूलांक-अंक ज्योतिष


कैसे ज्ञात करें अपना शुभ अं
     


     मूलांक से फलादेश के लिए आपके शुभ अंक का पता जन्मतिथि के अनुसार लगाया जाता है. जिस तिथि को जन्म हुआ हो उसके अंकों का योग मूलांक कहलाता है. 
   1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 अंकों के स्वामी नौ ग्रह क्रमश: सूर्य, चन्द्र, गुरु, राहू, बुध, शुक्र, केतु, शनि और मंगल हैं. यदि आपकी जन्मतिथि दो अंकों की है तो दोनों का योग करके संख्या निकाले, उदाहरण के  लिए यदि आपकी जन्म तारीख 23 है तो आपका मूलांक 2 +3 =5 होगा. जिसका स्वामी बुध होगा. ऐसे ही 1 से 31 तक जन्मे जातक अपने मूलांक और ग्रह को जान लें. 



1 अंक के स्वामी ग्रह – 1 अंक के स्वामी सूर्य ग्रह हैं. जिन जातकों का जन्म 01, 10, 19 या 28 तारीख को हुआ है उनका मूलांक 1 होता है. 



2 अंक के स्वामी ग्रह – 2 अंक के स्वामी चंद्रमा हैं. जिन जातकों का जन्म 02, 11, 20 या 29 तिथि को हुआ है उनका मूलांक 2 बनता है.



3 अंक के स्वामी ग्रह – 2 अंक के स्वामी बृहस्पति हैं.  जो जातक 03, 12, 21 या 30 तारीख को जन्मे हैं, उनका मूलांक 3 है.



4 अंक के स्वामी ग्रह – 4 अंक के स्वामी राहू हैं.  जिन जातकों का जन्म 04, 13, 22 या 31 तारीख को हुआ हो उनका मूलांक 4 हैं.



5 अंक के स्वामी – 5 अंक बुध का अंक है. जो जातक 05, 14 या 23 तारीख को जन्मे हैं उनका मूलांक 5 होगा. 



6 अंक के स्वामी –6 अंक के स्वामी शुक्र हैं.  06, 15 और 24 तारीख को जन्में जातकों का मूलांक 6 होता है. 



7 अंक के स्वामी – 7 अंक के स्वामी केतु माने जाते हैं.  07, 16 एवं 25 तारीख को जन्में जातकों का मूलांक 7 है.



8 अंक के स्वामी – 8 अंक शनि का अंक है. जो जातक 8, 17 या 26 तारीख को जन्में हैं उनका मूलांक 8 बनता है.



9 अंक के स्वामी – 9 अंक के स्वामी मंगल माने जाते हैं. जिन जातकों का जन्म 09, 18 या 27 तारीख को हुआ हो उनका मूलांक 9 हैं.


Acharyaa Rajrani Sharma, Astrologer


Popular posts from this blog

क्या आपकी जन्म कुंडली में है अंगारक योग ?  अशुभ अंगारक दोष से हो सकती है जेल !!

चंद्रमा जन्म कुंडली में नीच या पाप प्रभाव में हो तो ये करें उपाय

श्री दुर्गा सप्तशती के 6 विलक्षण मंत्र, करेंगे हर संकट का अंत