मंगलवार, 30 जून 2020

जन्म कुण्डली में 12 भावों में चंद्रमा और आप

चंद्रमा पर इतना कूड़ा-कचरा कैसे ...


चंद्रमा का 12 भावों में प्रभाव 


 


       नवग्रहों में चन्द्रमा का होना जीवन शक्ति के होने जैसा है. यही वह ग्रह है जो जीवन के प्रत्येक क्षण को प्रभावित करने कि क्षमता रखता है. इसका कारण इसकी तीव्र गति और सभी ग्रहों से सबसे ज्यादा तेज होना भी है. अन्य सभी ग्रह 1 माह से लेकर ढाई साल के करीब का समय लेते हैं अपने भ्रमण में पर केवल चंद्रमा ही एक ऎसा ग्रह हो जो सबसे अधिक तीव्र और जल्द फल देने में सक्षम होता है. चंद्रमा का कुंडली में किसी भी स्थान में होना उसकी ऊर्जा का उस स्थान पर होने से होता है. चंद्रमा के अंदर वो शक्ति है जो जीवन के प्रत्येक क्षण को प्रभावित करने वाली होति है. इसी से जीवन को जीने की शक्ति मिलती है. 


 


     Ist House- पहले घर में बैठा चंद्रमा जातक को चमत्कारिक रुप से भावना प्रधान बना सकता है. अस्थिरता और अनिश्चितता उस पर रहती है, लेकिन जनून भी बहुत होता है. खुद को लेकर एक अलग तरह कि सोच उस पर अपना असर जरूर डालती है. कला के प्रति दिलचस्पी भी बनती है. सुख को पाने की इच्छा रखने वाला, चंचलता युक्त होता है.


 


    2nd House-दूसरे घर में बैठा चंद्रमा कुछ धीर गंभीर, संभल कर बात करने वाला. परिवार को लेकर जिम्मेदार बनता है. अपनी भाषा से लोगों को प्रभावित करने की कोशिश में सफल होता है. खान पान ओर अन्य चीजों के प्रति काफी जल्द ही आकर्षित होता है. सहनशील का गुण भी व्यक्ति में देखने को मिल सकता है. 


 


    3rd House-तीसरे घर में चंद्रमा के होने पर व्यक्ति अधिक मेहनत करने से जी चुरा सकता है पर कोशिशें रखता है. अपने मन के काम करने की इच्छा अधिक होती है. हंसी मजाक करने वाला और विचारक भी होता है. मेहनत से ही धन लाभ पा सकता है. घूमने का शौकिन हो सकता है. 


 


   4th House-चौथे घर में चंद्रमा का होना कुछ आत्मिक सुख को बढ़ा सकता है. लालसा भी बढ़ा सकता है. स्त्री पक्ष की ओर से प्रेम की प्राप्ति होती है.  वाहन और वस्त्र इत्यादि चीजों का सुख भी मिलता है. आध्यात्मिक और चंचलता से भररुप हो सकता है.  अपना व्यवसाय करने के लिए सदैव आगे रहता है. अपने काम से उसे नाम की प्राप्ति होती है. 


 


   5th House-पांचवें घर में बैठा हुआ में चंद्र हो तो को सोच विचार में लगाए रखने वाल हो सकता है. प्रेम के प्रति आसक्ति भी रहती है. अपनी शुद्ध बुद्धि से आगे बढ़ने कि कोशिश करने वाला होगा. कई बार चंचल हो जाता है. मित्रता के प्रति सदैव आगे रह सकता है. बच्चों का सुख पाने वाला हो सकता है. सदाचारी और दूसरों को माफ करने वाला. कुछ चीजों का शौकीन हो सकता है.


 


    6th House-छठे घर में बैठा चंद्रमा आपको खर्चीला बना सकता है. जल से उत्पन्न होने वाले रोग जल्दी ही असर डालते हैं. कर्ज की स्थिति परेशान कर सकती है. मुश्किल हालातों का सामना करने में कमजोर भी पड़ सकता है. किसी चीज के प्रति लगाव या किसी प्रकार कि गलत आदत से जल्द ही प्रभावित हो सकता है. 


 


    7th House-सातवें घर में बैठा चंद्रमा रोमांस की ओर आपको जल्द ही आकर्षित कर सकता है. बौद्धिक और गुणवान होता है.  अभिमानी हो सकता है. रिश्तों में अस्थिरता जेल सकता है. लोगों के मध्य विचारक होता है. उच्च स्थान पाने में सक्षम होता है. 


 


     8th House-आठवें घर में बैठा चंद्रमा व्यक्ति को बेचैन और चंचल बना सकता है.  सट्टे से धन कमाने वाला हो सकता है. मानसिक रुप से बहुत अधिक सोच विचार करने वाला. नेता, प्रवासी, जलयात्रा करने वाला होता है.  क्षमाशील होता है और आद्यात्मिक हो सकता है. 


 


    9th House-नवें घर में चंद्रमा का होना धार्मिक रुप से मजबूती देने में सक्षम होता है. यश और मान सम्मान की प्राप्ति होती है. पिता और माता के प्रेम कि प्राप्ति होती है. धैर्यशील एवं मधुरभाषी बनता है. 


 


    10th House- दसवें घर में बैठा हुआ चंद्रमा होने से जातक कार्यकुशल बनता है. अपने काम में उन चीजों को आगे लाना चाहेगा जिसमें उसकी योग्यता का बेहतर रुप से सामने आ पाए. व्यापार करने कि इच्छा अधिक रह सकती है. लोगों के हितों के लिए काम करने वाला और प्रेम की अभिव्यक्ति करने वाला होता है. 


 


    11th House- ग्यारहवें घर में चंद्रमा के होने से बुद्धि का कुशलता से उपयोग करने वाला, आर्थिक लाभ पाने के लिए उत्सुक होता है. किसी विशेष चीज के प्रति आसक्ति रखने वाला होता है. एक साथ बहुत कुछ करने कि कोशिशें भी होती हैं. 


 


    12th House-बारहवें घर में चंद्रमा के होने से व्यक्ति अधिक खर्चीला हो सकता है. धन का सही रुप से उपयोग न कर पाए. कुछ मामलों में भ्रमण शील होता है. आंखों से संबंधित रोग प्रभावित कर सकते हैं. होने से जातक नेत्र रोगी, कफ रोगी, क्रोधी, एकांत प्रिय, चिंतनशील, मृदुभाषी एवं अधिक व्यय करने वाला होता है.


Acharyaa Rajrani Sharma, Astrologer


कुंडली के 12 घरों में चंद्रमा देता है ...


Featured Post

जगद्गुरु रामानुजाचार्य ने भी इसी महाशक्ति पीठ- शारदा सर्वज्ञ पीठ से प्रेरणा प्राप्त की थी

 नमस्ते शारदे देवि, काश्मीरपुर वासिनी,  त्वामहं प्रार्थये नित्यं, विद्यादानं च देहि मे  श्री शारदा सर्वज्ञ पीठ-काश्मीर का इतिहास  प्राक्कथन ...