शनिवार, 10 अगस्त 2019

शंकराचार्य मंदिर, श्रीनगर का इतिहास

 



शंकराचार्य मंदिर वर्त्तमान जम्मू काश्मीर राज्य के हिन्दू तीर्थ श्रीनगर शहर में पवित्र दल सरोवर के पास शंकराचार्य पर्वत पर स्थित है।



  • यह मंदिर समुद्र तल से 1100 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

  • शंकराचार्य मंदिर को मुस्लिम तुष्टिकरण के तहत और काश्मीर को इस्लामिककरण करने की नीति के तहत तख़्त-ए-सुलेमन की साजिश रची गई |

  • शंकराचार्य मंदिर काश्मीर में स्थित सबसे अनेक प्राचीन मंदिरों में से एक है।

  • इस मंदिर का निर्माण राजा गोपादात्य ने 371 ई. पूर्व में करवाया था।

  • डोगरा शासक महाराजा गुलाब सिंह ने मंदिर तक पँहुचने के लिए सीढ़ियाँ बनवाई थी।

  • इस मंदिर की वैदिक वास्तु के कारण यहाँ दैवीय शक्ति का वास है, जिसके प्रभाव से मंदिर काफ़ी ख़ूबसूरत दीखता है।

  • भगवान भोले नाथ का यह मंदिर क़रीब दो सौ साल पुराना है।


  • आदि शंकराचार्य ने अपनी काश्मीर यात्रा के अवसर पर यहाँ रुक कर साधना की थी, फिर यहाँ से 100 मील उत्तर में स्थित शारदा सर्वज्ञ पीठ में माँ सरस्वती के आशीर्वाद से जगद्गुरु की उपाधि प्राप्त की थी | उनका साधना स्थल आज भी यहाँ बना हुआ है |

  • इस्लामिक आतंकवादियों से सुरक्षा के लिए भारतीय सेना का यहाँ कड़ा प्रहरा है |



Featured Post

जगद्गुरु रामानुजाचार्य ने भी इसी महाशक्ति पीठ- शारदा सर्वज्ञ पीठ से प्रेरणा प्राप्त की थी

 नमस्ते शारदे देवि, काश्मीरपुर वासिनी,  त्वामहं प्रार्थये नित्यं, विद्यादानं च देहि मे  श्री शारदा सर्वज्ञ पीठ-काश्मीर का इतिहास  प्राक्कथन ...