Contact Information

header ads

‘फैनी’ तूफान को लेकर मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी, अगले 24 घंटे खतरनाक


बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवाती तूफान 'फैनी' से खतरे के मद्देनजर भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने दक्षिण भारत में अलर्ट जारी किया है। भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि ये तूफान आने वाले 12 घंटों में गंभीर रूप ले सकता है और अगले 24 घंटों के भीतर ये बेहद ही खतरनाक रूप ले सकता है। एक मई तक इस तूफान के उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना जताई गई है। साथ ही यह धीरे-धीरे उत्तर-पूर्व की ओर फिर से बढ़ेगा। तूफान के चलते अगले कुछ दिनों तक तमिलनाडु, केरल और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश की आशंका जताई है। क्षेत्रीय तूफान चेतावनी केंद्र के निदेशक एस बालाचंद्रन ने कहा कि रविवार रात और सोमवार सुबह तक इस चक्रवाती तूफान के बढ़ने की संभावना है। उन्होंने 30 अप्रैल और 1 मई तक इस तूफान के तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र तट के पास पहुंचने की संभावना जताई है। उन्होंने कहा कि फनी चक्रवाती तूफान एक मई के बाद अपनी दिशा बदलेगा और उत्तर और उत्तर पूर्व की ओर बढ़ेगा। लेकिन यह तमिलनाडु तट और दक्षिण आंध्र तट को पार नहीं करेगा।विभाग ने इससे पहले शनिवार को बताया था कि हिंद महासागर और दक्षिण पूर्व बंगाल की खाड़ी में बना भारी दबाव तेजी से चक्रवाती तूफान में तब्दील हो रहा है और 30 अप्रैल तक उत्तरी तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों से टकरा सकता है। 

बालाचंद्रन ने बताया कि बांग्लादेश के सुझाव पर तूफान को 'फैनी' नाम दिया गया है और अगले 24 घंटे में चक्रवाती तूफान के खतरनाक चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है। रविवार को 80-90 किलोमीटर से 100 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से हवा चल सकती है और दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी में समुद्र में ऊंची लहरें उठ सकती हैं। 

तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटीय इलाकों, कोमोरिन के क्षेत्र, मन्नार की खाड़ी और केरल के तटों 30-40 किमी. प्रति घंटे से 50 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है। 29 और 30 अप्रैल को केरल के कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। वहीं, 30 और 1 मई को तमिलनाडु और आंध्र में हल्की से मध्यम बारिश का अनुमान है। 

आईएमडी ने मछुआरों को 27 अप्रैल से 1 मई तक श्रीलंका, पुडुचेरी, तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र प्रदेश के समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी है। जो मछुआरे गहरे समुद्र में जा चुके हैं, उन्हें 28 अप्रैल तक तटों पर लौटने की सलाह दी गई है।