शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2021

ऋग्वेद 1.18.3

 मा नः शं] अररुषो धूर्तिः प्रणङ् मर्त्यस्य।

रक्षा णो ब्रह्मणस्पते॥३॥

मा। नः। शंसः। अररुषः। धूर्त्तिः। प्रणक्। मर्त्यस्य। रक्षा नः। ब्रह्मणस्पते॥३॥

पदार्थ:-(मा) निषेधार्थे (न:) अस्माकम् (शंस:) शंसन्ति यत्र सः (अररुषः) अदातुःरा दाने इत्यस्मात्क्वसुस्ततः षष्ठयेकवचनम्। (धूर्तिः) हिंसकः (प्रणक्) नश्यतु। अत्र लोडर्थे लुङ्। मन्त्रे घसह्वरणश० (अष्टा० २.४.८०) अनेन सूत्रेण च्लेर्लुक्। (मर्त्यस्य) मनुष्यस्य (रक्ष) पालय। व्यचोऽतस्तिङ इति दीर्घः। (न:) अस्मानस्माकं वा (ब्रह्मणः) वेदस्य ब्रह्माण्डस्य वा (पते) स्वामिन्। षष्ठ्याः पति० विसर्जनीयस्य सत्वम्॥३॥

अन्वयः-हे ब्रह्मणस्पते जगदीश्वर! त्वमररुषो मर्त्यस्य सकाशान्नोऽस्मान् रक्ष, यतः स नोऽस्माकं मध्ये कश्चिद्भूतिर्मनुष्यो न भवेत्, भवत्कृपयाऽस्माकं शंसो मा प्रणक् कदाचिन्मा नश्यतु॥३॥

भावार्थ:-नैव केनचिन्मनुष्येण धूर्तस्य मनुष्यस्य कदाचित्सङ्गः कर्त्तव्यःन चैवान्यायेन कस्यचिद्धिंसनं कर्त्तव्यम्, किन्तु सर्वे: सर्वस्य न्यायेनैव रक्षा विधेयेति॥३॥

पदार्थ:-हे (ब्रह्मणस्पते) वेद वा ब्रह्माण्ड के स्वामी जगदीश्वर! आप (अररुषः) जो दान आदि धर्मरहित मनुष्य है, उस (मर्त्यस्य) मनुष्य के सम्बन्ध से (न:) हमारी (रक्ष) रक्षा कीजिये, जिससे कि वह (नः) हम लोगों के बीच में कोई मनुष्य (धूर्तिः) विनाश करनेवाला न हो और आपकी कृपा से जो (नः) हमारा (शंसः) प्रशंसनीय यज्ञ अर्थात् व्यवहार है, वह (मा पृणक्) कभी नष्ट न होवे॥३॥ ___

भावार्थ:-किसी मनुष्य को धूर्त अर्थात् छल कपट करनेवाले मनुष्य का संग न करना तथा अन्याय से किसी की हिंसा न करनी चाहिये, किन्तु सब को सब की न्याय ही से रक्षा करनी चाहिये।॥३॥

अथेन्द्रादिकृत्यान्युपदिश्यन्ते।

अगले मन्त्र में इन्द्रादिकों के कार्यों का उपदेश किया है

Featured Post

जगद्गुरु रामानुजाचार्य ने भी इसी महाशक्ति पीठ- शारदा सर्वज्ञ पीठ से प्रेरणा प्राप्त की थी

 नमस्ते शारदे देवि, काश्मीरपुर वासिनी,  त्वामहं प्रार्थये नित्यं, विद्यादानं च देहि मे  श्री शारदा सर्वज्ञ पीठ-काश्मीर का इतिहास  प्राक्कथन ...