गुरुवार, 2 जुलाई 2020

अब रूस से पंगा लेने पर तुला चीन- रूस के व्लादिवोस्तोक शहर को बताया अपना

US accuses China, Russia of coordinating on virus conspiraciesनई दिल्ली. 2 जुलाई |  रूस से पंगा लेने पर तुला चीन, अब रूस के व्लादिवोस्तोक शहर पर चीन का दावा, कहा-1860 से पहले हमारा था


   


    चीन में जितने भी मीडिया संगठन हैं सभी सरकारी है.  ऐसी स्थिति में सीजीटीएन के संपादक  शेन सिवई का ट्वीट अहम हो जाता है, चीन के सरकारी समाचार चैनल सीजीटीएन के संपादक शेन सिवई ने दावा किया कि रूस का व्लादिवोस्तोक शहर 1860 से पहले चीन का हिस्सा था.









Shen Shiwei沈诗伟

 



@shen_shiwei










 










This “tweet” of #Russian embassy to #China isn’t so welcome on Weibo “The history of Vladivostok (literally 'Ruler of the East') is from 1860 when Russia built a military harbor.” But the city was Haishenwai as Chinese land, before Russia annexed it via unequal Treaty of Beijing.







 







    चीन अपनी विस्तारवादी नीति के कई आत्मघाती फैसले ले  रहा है, भारत और रूस ही नहीं लगभग 18 देशों से चीन ने भूमि कब्जाने को लेकर एक प्रकार का युद्ध छेड़ा हुआ है.  रूस के शहर पर अपना दावा करने के सन्दर्भ में कहा कि रूस के ब्लादिवोस्तोक शहर को पहले हैशेनवाई कहते थे. जिसे रूस ने 160 साल पहले रूस से एकतरफा संधि के तहत चीन से छीन लिया था. 
अब रूस के व्लादिवोस्तोक शहर पर चीन के इस दावे से पर आश्चर्य नहीं करना चाहिए. चीन 18 देशों की भूमि हड़पने की होड़ में अपने विनाश के करीब पहुच चूका है. 


चीन ने जिन देशों की भूमि को हड़पने के लिए युद्ध की स्थिति में आ गया है, उन देशों की सूची 


Featured Post

जगद्गुरु रामानुजाचार्य ने भी इसी महाशक्ति पीठ- शारदा सर्वज्ञ पीठ से प्रेरणा प्राप्त की थी

 नमस्ते शारदे देवि, काश्मीरपुर वासिनी,  त्वामहं प्रार्थये नित्यं, विद्यादानं च देहि मे  श्री शारदा सर्वज्ञ पीठ-काश्मीर का इतिहास  प्राक्कथन ...