आदित्य कवच मंत्र


ज्योतिषीय उपाय-


शत्रुओं पर विजय दिलाता है आदित्य कवच मन्त्र 


30 दिन तक सूर्योदय के समय करें पाठ 


 ॥  आदित्य कवच मंत्र  ॥


ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम् ।


रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्धाय समुपस्थितम् ॥१॥


दैवतैश्च समागम्य द्रष्टुमभ्यागतो रणम्।


उपागम्याब्रवीद्राममगस्त्यो भगवान् ऋषिः॥ २॥


राम राम महाबाहो शृणु गुह्यं सनातनम्।


येन सर्वानरीन् वत्स समरे विजयिष्यसि ॥ ३॥


आदित्यहृदयं पुण्यं सर्वशत्रुविनाशनम्।


जयावहं जपेन्नित्यम् अक्षय्यं परमं शिवम् ॥ ४ ॥


सर्वमङ्गलमाङ्गल्यं सर्वपापप्रणाशनम्।


चिन्ताशोकप्रशमनम् आयुर्वर्धनमुत्तमम् ॥ ५॥


रश्मिमन्तं समुद्यन्तं देवासुरनमस्कृतम्।


पूजयस्व विवस्वन्तं भास्करं भुवनेश्वरम् ॥ ६॥


सर्वदेवात्मको ह्येष तेजस्वी रश्मिभावनः ।


एष देवासुरगणाँल्लोकान् पाति गभस्तिभिः ॥ ७ ॥


एष ब्रह्मा च विष्णुश्च शिवः स्कन्दः प्रजापतिः।


महेन्द्रो धनदः कालो यमः सोमो ह्यपां पतिः ॥ ८ ॥


दूरभाष - 9911438929 (सुबह 10 से 7 बजे तक )


Popular posts from this blog

क्या आपकी जन्म कुंडली में है अंगारक योग ?  अशुभ अंगारक दोष से हो सकती है जेल !!

चंद्रमा जन्म कुंडली में नीच या पाप प्रभाव में हो तो ये करें उपाय

श्री दुर्गा सप्तशती के 6 विलक्षण मंत्र, करेंगे हर संकट का अंत